IPS राकेश दुबे ने वेतन में से कभी भी खर्च नहीं किया पैसा, काली कमाई से खड़ी कर दी करोड़ों की संपत्ति

बीते कुछ दिनों से बिहार में भ्रष्टाचारी अफसरों के खिलाफ आर्थिक अपराध इकाई के द्वारा सख्त कार्रवाई की जा रही है। इस कार्रवाई के चलते कई भ्रष्टाचारी अफसरों के खिलाफ मिले सबूतों के आधार पर उनके ठिकानों पर छापेमारी की गई। इन्हीं में से एक भोजपुर के पूर्व एसपी और अपने दायित्व से निलंबित कर दिए गए आईपीएस अधिकारी राकेश दुबे भी शामिल है। राकेश दुबे ने बालू माफियाओं के साथ सांठगांठ करते हुए करोड़ों रुपए की संपत्ति अर्जित की जिसके चलते उनके चार ठिकानों पर छापामारी करने के बाद कुल 2 करोड़ 55 लाख 59 हजार 691 रुपये की संपत्ति बरामद की गई।

आर्थिक अपराध इकाई के द्वारा जांच करने पर निलंबित आईपीएस अधिकारी राकेश दुबे के खिलाफ कई पुख्ता सबूत मिले हैं। जानकारी के मुताबिक उन्होंने पटना और यूपी समय झारखंड के कई बड़ी कंपनियों में real-estate में निवेश किया है। निलंबित आईपीएस अधिकारी राकेश दुबे ने इंफ्रास्ट्रक्चर आईपीसी, देवघर -रांची, कामिनी इंफ्रास्ट्रक्चर, पाटलिपुत्र बिल्डर (डायरेक्टर अनिल कुमार )ख्याति कंस्ट्रक्शन, मैक्स ब्लीफ, नोएडा बिल्डकॉन समेत अन्य बड़ी-बड़ी कंपनियों में झारखंड बिहार और यूपी में निवेश कर रखा है।

मिली जानकारी के अनुसार निलंबित आईपीएस अधिकारी राकेश दुबे ने एक खेती कंस्ट्रक्शन कंपनी को करीब 25 लाख दिए हैं और इसके साथ ही करोड़ों रुपए शुद्ध पर भी दिए हैं। निलंबित आईपीएस अधिकारी राकेश दुबे बिहार के 42 वी बैच के अफसर हैं। बीते गुरुवार को उनके चार ठिकानों पर छापेमारी की गई जिनमें पटना के एसके पुरी और अभियंता नगर स्थित मकान और फ्लैट के अलावा, झारखंड के जसीडीह स्थित सचिंद्र रेजिडेंसी और उनके पैतृक गांव सिमरिया शामिल है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि अपने वेतन में से राकेश दुबे ने 1 रूपया भी खर्च नहीं किया है। राकेश दुबे और उसकी पत्नी के नाम से म्यूचुअल फंड में करीब 12 लाख रुपए इन्वेस्ट किए गए हैं। अपनी पत्नी मां और बहन के नाम से कई जगह पर अचल संपत्ति खरीदने का भी मामला सामने आ रहा है। इसके अलावा भी कई ठिकानों में राकेश दुबे ने इन्वेस्टमेंट कर रखी थी जिसका धीरे-धीरे भांडा फूट रहा है।

Facebook Comments