भारतीय डॉक्टरो ने बचायी सऊदी अरब से आयी बच्ची की जान, गाय की मदद से हुआ चमत्कार

भारत फ़िलहाल मेडिकल क्षेत्र में काफी तेजी से उभरता हुआ देश है जहाँ पर लगभग 99 प्रतिशत तरीके की बीमारियों का इलाज हो सकता है और सर्जरी हो जाती है. ऐसे में एक खबर इन दिनों ऐसी आयी है जो दिल को सुकून देने वाली है. एक बच्ची है जिसका नाम है हूर. हूर नाम की इस बच्ची की उम्र महज 1 साल है और ये सऊदी अरब से भारत आयी है और इस बच्ची के लीवर में दिक्कत थी जिसके चलते उसे गुरुग्राम शहर के आर्टेमिस अस्पताल में भर्ती करवाया गया जहाँ पर डॉक्टर्स ने इलाज के लिए उसे भर्ती किया गया और उसके लीवर ट्रांसप्लांट की प्रक्रिया शुरू की गयी और इसके लिए गाय की नस का उपयोग किया गया.

अब आप इसे सामान्य भाषा में नस भी कह सकते है और अगर डिटेल में जाए तो इसे ‘बोविन जगलर वेन’ कहा जाता है जिसकी मदद से ये लीवर ट्रांसप्लांट सफलतापूर्वक संपन्न हो पाया है और अब ये एक साल की बच्ची हूर पूरी तरह से स्वस्थ है और सुरक्षित भी है.

ये कही न कही मेडिकल क्षेत्र में इतनी प्रगति का ही परिणाम है कि ऐसा हो पाया और इस तरह के कार्यो के लिए डॉक्टर लोग भी बधाई के पात्र है जो कही न कही भारत को मेडिकल के क्षेत्र में बहुत ही आगे ले जाने का कार्य कर रहे है. हालांकि भारत में आज भी मेडिकल इन्फ्रा काफी कम है.

बहुत ही कम मात्रा में मेडिकल कॉलेज है और सरकारी अस्पतालों में तो संसाधनों की हालत खस्ता है लेकिन इस देश के डॉक्टर्स का जूनून है और ज्ञान है कि वो आज भी इस देश को ही नही बल्कि दुनिया भर के लोगो को भी मेडिकल सुविधा मुहैया करवा रहे है और देश का नाम भी रौशन कर रहे है जो अपने आप में तारीफ़ के काबिल भी है,

Facebook Comments