कुम्भ के शानदार आयोजन को के लिए 15 हजार करोड़ रूपये देगी सरकार

कुम्भ काफी लम्बे वक्त से भारतीयों और हिन्दुओ की आस्था का केंद्र रहा है यहाँ पर लाखो हिन्दू अपनी आस्था के साथ में आते है और अपने पाप धोने का एहसास करते है सभी की अपनी अपनी मान्यताएं होती है लेकिन ये बात भी जग जाहिर है कि कुम्भ में एक साथ लाखो लोगो का एक साथ में आगमन होता है और ऐसी स्थिति में यहाँ पर बस काम जैसे तैसे हो जाए ऐसी ही उम्मीद की जाती है लेकिन शायद ऐसा हो नही पाया क्योंकि सरकारों की तरफ से इस पर ख़ास ध्यान नही दिए गये लेकिन अभी फ़िलहाल में भारत की केंद्र सरकार और उत्तर प्रदेश की राज्य सरकार ने इस कुम्भ को जो अभी हाल ही में प्रयागराज में होने जा रहा है उसको एक नया रूप देने का ऐलान किया है और इसकी घोषणा खुद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की है और घोषणा करते हुए बताया कि केंद्र और राज्य सरकार इस बार कुम्भ आयोजन के लिए 12 से 15 हजार करोड़ देगी जो पिछली सरकारों के बजट से कई गुना ज्यादा है।

योगी आदित्यनाथ बताते है कि यहाँ पर कोई भी काम टेम्परेरी नही होगा बल्कि सारा काम स्थायी रूप से किया जा रहा है और ये 30 नवम्बर तक पूरा भी होगा जिसमे स्वच्छता और समरसता सबसे चरम पर होंगे वही प्रयागराजवासी यहाँ की सडको पर चलकर के वाकई में अपने शहर पर गौरवान्वित महसूस करेंगे।

हम ऐसा काम कर रहे है मुख्यमंत्री ने ये भी बताया कि कुम्भ के पास ही एक टेंट सिटी भी बसाई जायेगी जहाँ पर बाहर से आने वाले सैलानियों को ठहराने की व्यवस्था की जायेगी और इस बार पहली बार हम कुम्भ की मूलभूत संरचना को ही पूरी तरह से बदलकर के रख देने वाले है इस बार जनता सीएम से कुम्भ में सुरक्षा को लेकर के भी कुछ कमिटमेंट कर दे लेकिन अभी तक ऐसा हुआ नही है वही विरोधी इसे फिजूलखर्ची बता रहे है तो बीजेपी समर्थक उनसे सैफई महोत्सव में होने वाले खर्चो का हिसाब मांगने लगे मानो बस ये परम्परा ऐसे ही चलती रहेगी और कही ना कही लोगो को दिक्कते और उसके निपटारे भी वक्त के साथ मिलते ही रहेंगे बाकी कुम्भ ऐसा इस बार कैसा होगा? ये तो आने वाला वक्त ही बता पायेगा

Facebook Comments